X Close
X

मीनाक्षी लेखी ने पानी की कमी पर जताया विरोध, जल बोर्ड ने राजनीति करने का लगाया आरोप


नयी दिल्ली। नयी दिल्ली से सांसद एवं भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में ‘‘पानी की कमी’’ के खिलाफ दिल्ली जल बोर्ड के आर. के. पुरम स्थित कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। लेखी ने दावा किया कि नगरपालिका क्षेत्र भी पानी की कमी की समस्या का सामना कर रहे हैं और उनके निर्वाचन क्षेत्र में कई स्थानों में पाइप के जरिए जलापूर्ति की सुविधा नहीं है।

इस बीच, दिल्ली जल बोर्ड ने कहा कि वह अपनी क्षमता से अधिक जल की आपूर्ति कर रहा है और भाजपा लोगों की मदद करने के बजाए ‘‘मामले का राजनीतिकरण’’ कर रही है। लेखी ने कहा, ‘‘लेडी हार्डिंग स्टाफ क्वार्टर और आनंद प्रभात एवं बलजीत नगर के ऊपरी इलाकों में पाइप से जलापूर्ति की सुविधा उपलब्ध नहीं है। नारायणा, कृष्णा नगर और अर्जुन नगर जैसे इलाकों में पाइप से जलापूर्ति तो होती है लेकिन पिछले 10-15 दिनों से यहां जलापूर्ति ही नहीं हो रही।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कुछ इलाकों में पानी की खराब गुणवत्ता की शिकायत है… यह हालत आर के पुरम और कई अन्य जगहों पर है। मुनिरका गांव जैसी जगहें हैं जहां सीवेज का पानी पेयजल से मिल जाता है।’’

लेखी ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि दिल्ली सरकार की प्राथमिकताएं अनुपयुक्त हैं। दिल्ली में अधिकतर महिलाएं पानी की कमी से जूझ रही हैं और केजरीवाल उन्हें दिल्ली मेट्रो में नि:शुल्क सवारी की सुविधा देना चाहते हैं।’’ उन्होंने दावा किया कि महिलाओं के कई घंटे टैंकरों से पानी एकत्र करने के लिए पंक्तियों में खड़े-खड़े व्यर्थ हो जाते हैं और इस दौरान झगड़े भी होते हैं। लेखी ने दावा किया कि दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) की जल वितरण प्रणाली पुरानी और खस्ताहाल है और इसके लिए पिछले 30 से 35 साल से कोई काम नहीं किया गया है।
डीजेबी के उपाध्यक्ष दिनेश मोहनिया ने कहा कि भाजपा मामले का राजनीतिकरण कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘आनंद प्रभात जैसी कई जगहों पर भौगोलिक बाधाओं के कारण डीजेबी के लिए जल एवं सीवर की पाइपलाइन डालना संभव नहीं है। वे हमेशा आधा सच बताते हैं।’’

मोहनिया ने कहा, ‘‘ऐसा नहीं है कि केवल दिल्ली ही इन समस्याओं से जूझ रही है। पूरा देश भीषण गर्मी और पानी की कमी का सामना कर रहा है। हम अपनी क्षमता से अधिक जल की आपूर्ति कर रहे हैं। हमारी आपूर्ति कम नहीं हुई है लेकिन अत्यंत गर्मी के कारण मांग बढ़ गई है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘देश में सभी नदियों, झीलों और तालाबों का जल सूख रहा है। ऐसी स्थिति में लोगों की मदद करने के बजाए भाजपा मामले का राजनीतिकरण कर रही है।’’